महिला समृद्धि योजना क्या है

वर्तमान में केन्द्र सरकार में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में सरकार काम कर रही है। प्रधानमंत्री पद पर नरेंद्र मोदी जी काबिज हैं। नरेंद्र मोदी जी पीएम बनने से पहले गुजरात जैसे राज्य के 3 बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

गुजरात को विकसित बनाने और सहकारी योजनाओं के जरिये गुजरात राज्य की महिलाओं को आर्थिक तौर समर्थ बनाने में नरेंद्र मोदी जी का बहुत बड़ा योगदान है। अब जब नरेंद्र मोदी जी देश के प्रधानमंत्री हैं तो वह पूरे देश की के लोगों को सशक्त बनाने के तरफ आगे बढ़ रहे हैं।

महिला समृद्धि योजना केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना है। इस योजना में वयस्क ग्रामीण यानी 18 साल से अधिक की उम्र की ग्रामीण महिलाओं के लिए बचत कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस बचत कार्यक्रम को केन्द्र सरकार द्वारा प्रोत्साहन दिया जाता है।

इस योजना के तहत ग्रामीण वयस्क महिला अपने गाँव/पंचायत के डाकघर में खाता खोलकर एक वर्ष में कम से कम 300 रुपये जमा करना होता है। महिलाओं द्वारा जमा धनराशि पर केन्द्र सरकार द्वारा 24 प्रतिशत तक सालाना ब्याज देने का प्रावधान है।  

आपका बिजनेस कितना पुराना है?
पिछले साल की बिक्री ?
प्रथम नाम
अंतिम नाम
मोबाइल नंबर
अपने शहर का नाम दें

instant business loan

Ziploan व्यवसायों के लिए लोकप्रिय लोनदाता है।

Icon1

न्यूनतम कागजात

बैलेंस शीट की जरूरत नहीं है

Icon4

प्री-पेमेंट चार्जेंस फ्री

6 EMI का भुगतान करने के बाद

Icon3

सिर्फ 3 दिन* में बिजनेस लोन

रकम आपके बैंक खाते में

महिला समृद्धि योजना के बारें में विस्तार से जानकारी

इस वैश्वीकरण यानी ग्लोबलाइजेशन के दौर में बहुत सी चीजों में बदलाव आया है। इस बदलाव के पीछे समय की मांग और इंसान को इंसान के रुप में समझने की शिक्षा का बहुत बड़ा योगदान है। पहले हमारे देश में महिलाओं को दोयम दर्जे का नागरिक समझा जाता है। 

फिर एक समय ऐसा आया जब महिलाओं को घर के लिए सजावट का सामान समझा जाने लगा। लेकिन 80 का दशक आते – आते महिलाएं अपनी पहचान बनाने लगीं। महिलाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़ने लगीं। तब लोगों को समझ आया कि महिलाएं भी पुरुषों के सामान ही हैं। पुरुषों से किसी मामले में कम नही हैं।

शहरी क्षेत्र में तो स्थिति बहुत सुधरने लगी लेकिन फिर भी ग्रामीण इलाकों में महिलाओं को लेकर सोच अभी भी पूरी तरह से नहीं बदली है। ऐसे में ग्रामीण महिलाओं को अभी भी पुरुषों के ऊपर ही आश्रित रहना पड़ता है। पुरुषों पर आश्रित रहने की वजह से महिलाओं की आर्थिक स्वतंत्रा बाधित होती है। 

यह स्वाभाविक भी है। क्योंकि, जब पुरुष कमाता है तो वह अपने पैसों को अपने अनुसार खर्च करना चाहता है। उसका मन किया तो तो महिला को पैसा दिया, नहीं मन किया तो महिला को पैसा नहीं दिया। ऐसे महिलाएं आर्थिक से परजीवी हो जाती हैं। 

केन्द्र सरकार द्वारा ग्रामीण महिलाओं को आर्थिक से रुप समर्थ बनाने के लिए एक योजना शुरु हुई है। इस योजना का नाम महिला समृद्धि योजना है। इस योजना में ग्रामीण महिलाओं को अपने नजदीकी बैंक या डाकघर में महिला समृद्धि खाता खोलना होता है। 

इस खाता यानी महिला समृद्धि खाता सालाना कम से कम 300 रुपये जमा करना होता है। अगर कोई महिला महिला समृद्धि खाता में सालाना 300 रुपये जमा करती हैं, तो केन्द्र सरकार द्वारा उस 300 रुपये 24 प्रतिशत ब्याज दिया जायेगा।

इसे इस तरह समझे: 100 रुपया पर 24 प्रतिशत होता है 24 रुपया। इसी तरह 300 रुपये पर 24 प्रतिशत ब्याज होता है: 24+24+24= 72 रुपया। यानी 300 रुपये पर सरकार द्वार 72 रुपये हर साल जमा किया जायेगा। 

इसी तरह जैसे – जैसे जमा रकम बढ़ती जाएगी, वैसे – वैसे ब्याज की रकम बढ़ती जाएगी। इस तरह देखें तो ग्रामीण महिलाओं के लिए यह योजना एक शानदार आर्थिक सुधार योजना है। इस योजना के तहत महिलाएं खाता खोलकर बेहतर ब्याज की रकम इक्कठा कर सकती हैं।

महिला समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए पात्रता 

महिला समृद्धि योजना के बारें में महत्वपूर्ण जानकारी 

ICICI-Prudential-Internal-page

बुनियादी समस्याओं का हल

राम यादव

मैं बारह वर्षों से अपना कारोबार चला रहा हूं लेकिन अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए सक्षम नहीं था। मैंने Ziploan में आवेदन किया और उन्होंने मेरे लोन आवेदन को बहुत ही कम समय में मंजूरी दे दी।

कंचन लता

मैंने अपने कारोबार की ज़रूरतों के लिए ZipLoan से संपर्क किया। कंपनी से लोन पाने की शर्तें पूरा करना आसान था। उन्हें सिर्फ 1 साल का ITR और बिजनेस का सालाना टर्नओवर 10 लाख तक की जरूरत थी।

क्या आप भी ZipLoan के मदद से अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए तैयार हैं?