पैन कार्ड के बारे में जानकारी

पैन कार्ड के बारे में जानकारी: वर्तमान समय में पैन कार्ड के अनिवार्य जरूरत बन गया है। पैन कार्ड के बारे में जानकारी सभी को होना चाहिए। फाइनेंशियल जरूरत के साथ ही खुद की पहचान साबित करने के लिए भी पैन कार्ड का इस्तेमाल किया जाता है।

पैन कार्ड को यूटीआई पैन भी कहा जाता है। यूटीआई पैन का फुल फॉर्म यूटीआई इन्वेस्टर सर्विसेज लिमिटेड - (UTIISL) UTI Infrastructure Technology And Services Limited (UTIITSL) है।

देश में दो कार्ड की मांग सबसे अधिक होती है। आधार कार्ड और पैन कार्ड। आधार कार्ड से जहां व्यक्ति खुद की पहचान साबित कर सकता हैं। वहीं पैन कार्ड से पहचान साबित करने के साथ वित्तीय लेनदेन में भी पैन कार्ड का इस्तेमाल कर सकता है।

पैन कार्ड के बारे में जानकारी: पैन कार्ड का असली महत्व उसपर छपे 10 अक्षरों के अल्फानुमेरिक नंबर है। यह नंबर यूनिक होते हैं यानी एक नंबर एक ही व्यक्ति के पास हो सकता है। इस तरह हम कह सकते हैं कि जिस तरह डीएनए सभी का डिफरेंट होता है उसी प्रकार सभी का पैन नंबर भी अलग – अलग होता है।

पैन कार्ड एक एटीएम के आकार वाला कार्ड है। पैन कार्ड पर संबंधित व्यक्ति का फोटो, व्यक्ति का नाम, लिंग, उनके पिता का नाम और उनकी जन्मतिथि के साथ पैन नंबर दर्ज होता है। पैन कार्ड नंबर से ही आयकर विभाग को कार्डधारक से सम्बंधित विशेष जानकारी मिलती है।

आपका बिजनेस कितना पुराना है?
पिछले साल की बिक्री ?
प्रथम नाम
अंतिम नाम
मोबाइल नंबर
अपने शहर का नाम दें

instant business loan

Ziploan व्यवसायों के लिए लोकप्रिय लोनदाता है।

logo
बेहद कम कागजी दस्तावेज प्रक्रिया

बैलेंस शीट की जरूरत नहीं

logo
बिना कुछ गिरवी रखें

5 लाख सालाना टर्नओवर कारोबार के लिए

logo
सिर्फ 3 दिन के भीतर लोन मिलेगा

घर बैठे आपके बैंक अकाउंट में

logo
6 महीने बाद प्री-पेमेंट फ्री

आसान किश्तों में वापस करें

आयकर विभाग से बनता है पैन कार्ड

कई लोग इस बात को लेकर असमंजस में रहते हैं कि पैन कार्ड कहां से बनता है? पैन कार्ड कौन बनाता है? तो इसका उत्तर बहुत आसान है कि पैन कार्ड आयकर विभाग यानी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से बनता है। यानी पैन कार्ड की कोई ऑफिस नहीं होती बल्कि वह आयकर के कार्यालय से ऑपरेट होता है।

पैन कार्ड बनाने के लिए आयकर विभाग द्वारा यूटीआई इन्वेस्टर सर्विसेज लिमिटेड (UTIISL) - (UTIISL) UTI Infrastructure Technology And Services Limited (UTIITSL) कंपनी को अधिकृत किया गया है। इस लिए कुछ लोग पैन कार्ड को यूटीआई पैन भी कहते हैं।

यूटीआई पैन कार्ड का उपयोग कहां – कहां है?

जिस प्रकार आधार कार्ड की जरूरत आज की डेट की हर काम के लिए होती है। ठीक उसी तरह 50 हजार से अधिक के लेनदेन में पैन कार्ड की जरूरत होती ही है। इसके अलावा बहुत से ऐसे क्षेत्र हैं जहां स्पष्ट तौर पर पैन कार्ड की मांग की जाती है। पैन कार्ड की जरूरत वाले क्षेत्र निम्न हैं:

बैंक सम्बंधित कार्य के लिए पैन कार्ड

बैंक में खाता खुलवाना आज की डेट में सभी की जरूरत है। ऐसा नहीं है की बिना पैन कार्ड के बैंक में खाता नहीं खुल सकता हैं। लेकिन जब किसी को अपने बैंक खाता से 50 हजार से अधिक धनराशि निकालने की जरूरत पड़ती है या 50 हजार से जमा करना होता है तो पैन कार्ड अनिवार्य रुप से चाहिए होता है।

बैंक केवाईसी कराने में भी पैन कार्ड अनिवार्य होता है। इस तरह देखा जाये तो बैंकिंग से जुड़े कार्यों में पैन कार्ड अनिवार्य तौर पर चाहिए होता है।

आईटीआर फाइल करने के लिए यूटीआई पैन की जरूरत

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए पैन नंबर अनिवार्य होता है। आईटीआर में व्यक्ति अपने द्वारा की गई इनकम को विवरण आयकर विभाग को लिखित रुप में सौपता है।

जब व्यक्ति इनकम टैक्स विवरण दाखिल करता है तब उसे पैन नंबर अनिवार्य रुप देना होता है। यह आयकर के सेक्शन 139A (1) and (1A) के तहत अनिवार्य है।

एक से अधिक यूटीआई पैन रखना गैरकानूनी होता है

आयकर विभाग के नियमों के मुताबिक एक व्यक्ति सिर्फ एक ही पैन कार्ड रख सकता है। एक से अधिक पैन बनवाना गैरकानूनी होता है। एक व्यक्ति से नाम से एक से अधिक पैन बनवाना आयकर अधिनियम 139 A(7) के तहत कार्यवाई की जा सकती है।

नौकरी के स्थान पर पैन कार्ड की जरूरत

जब कोई व्यक्ति कोई नौकरी ज्वाइन करता है तो उससे शैक्षिक कागजातों के अलावा पैन कार्ड भी अनिवार्य रुप से मांगा जाता है। चूंकि नौकरी मिलने के साथ ही व्यक्ति की इनकम शुरु हो जाती है। तो पैन कार्ड के जरिये यह पारदर्शिता होती है की व्यक्ति की मंथली और सालाना इनकम कितना है।

पहचान साबित करने के इए पैन कार्ड की जरूरत

कई लोग किसी ऐसे जगह पर चले जाते हैं जहां उनकों खुद की पहचान पत्र दिखाना होता है। पहचान पत्र वहीं दिखाना होता है जिसपर उनकी फोटो हो और वह पहचान पत्र को सरकार द्वारा मान्यता दी गई हो।

ऐसे में पैन कार्ड इन शर्तों पर खरा उतरता है। पैन कार्ड पर व्यक्ति का नाम, पिता का नाम, जन्मतिथि और फोटो मौजूद होता है। पैन कार्ड के बारे में जानकारी होने पर कोई व्यक्ति खुद की पहचान साबित कर सकता है।

बिजनेस लोन/लोन आवेदन में पैन कार्ड की जरूरत

लोन एक फाइनेंशियल प्रोडक्ट है यानी यह लेनदेन से जुड़ा है। जैसा हमने पहले ही बताया कि वित्तीय लेनेदेन में पैन कार्ड का उपयोग जरूरी तौर से होता है।

जब कोई कारोबारी बिजनेस लोन के लिए किसी कंपनी में लोन आवेदन देते हैं तब लोन देने वाली कंपनी या बैंक यह जानना चाहता है कि इस व्यक्ति का पिछला लोन का रिकार्ड कैसा रहा है। यानी जो पहले लोन लिया गया था उसे किस प्रकार वापस किया गया है।

लोन चुकाने के ट्रक रिकार्ड के आधार पर ही कारोबारी को लोन देने या लोन नहीं लोन देने का निर्णय किया जाता है। जब कारोबारी लोन आवेदन के लिए पैन कार्ड देता है तब उनके पैन नंबर से ग्राहक का सिबिल क्रेडिट स्कोर की जांच की जाती है।

सिविल क्रेडिट स्कोर के आधार पर ही बिजनेस लोन देना का निर्णय किया जाता है। इस तरह देखा जाये तो लोन/बिजनेस लोन लेने के लिए पैन नंबर बहुत ही महत्वपूर्ण है।

डाकघर में पैसा करने के लिए जमा

अगर कोई व्यक्ति डाकघर में 50 हजार से अधिक रकम जमा करना चाहता है या फिक्स्ड डिपॉजीट करना चाहता है उसको पैन नंबर देना अनिवार्य होता है।

पैन कार्ड की जानकारी हिंदी में: विदेशी मुद्रा विनिमय

बहुत से लोग व्यक्तिगत काम से या घुमने के लिए विदेश से भारत आते हैं, भारत से विदेश जाते हैं। सभी देश की मुद्रा अलग होती है। ऐसे में जब व्यक्ति विदेशी मुद्रा को भारतीय पैसों में बदलता है तो उसे पैन नंबर देना अनिवार्य होता है।

सभी को शेयर ट्रेडिंग के लिए पैन कार्ड की जानकारी चाहिए

शेयर ट्रेडिंग भारत में एक उभरता हुआ एक नया बिजनेस है। बड़े शहरों में लोग बड़ी संख्या में शेयर ट्रेडिंग बन रहे हैं। शेयर ट्रेडिंग करने के लिए पैन नंबर अनिवार्य होता है।

यूटीआई पैन की जरूरत म्यूचुअल फंड के लिए

लोग अपने पैसों को इन्वेस्ट करने के लिए म्यूचुअल फंड में लगा देते हैं। आपको जानकारी के लिए बता दें कि म्यूचुअल फंड या कहीं पर भी पैसा इन्वेस्ट करने के लिए पैन नंबर की जरूरत होती है।

पैन कार्ड की जानकारी चाहिए प्रॉपर्टी से सम्बंधित लेनदेन के लिए

प्रॉपर्टी कारोबारियों के साथ ही आम लोग भी प्रॉपर्टी खरीदते – बेचते रहते हैं। यहां पर यह बताना उचित है कि किसी भी प्रॉपर्टी की खरीद – बिक्री के लिए पैन नंबर आवश्यक होता है।

क्रेडिट या डेबिट कार्ड लेने के लिए पैन कार्ड की जरूरत

अब लोग बैंक से पैसा निकालने के लिए बैंक की लाइन में लगना कम पसंद करते हैं। ऐसे में डेबिट कार्ड का उपयोग बढ़ गया है। डेबिट कार्ड लेने के लिए पैन कार्ड की फोटोकॉपी देना आवश्यक होता है।

लोग अब अपने खर्च अपने खर्च की सीमा बढ़ा रहे हैं। ऐसे में जब क्रेडिट कार्ड का प्रचलन बहुत अधिक बढ़ रहा है। क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए पैन कार्ड अनिवार्य रुप से देना होता है। बिना पैन नंबर के क्रेडिट कार्ड नहीं बनता है।

पैन कार्ड की जानकारी चाहिए पेमेंट वॉलेट क्रियेट करने के लिए

वर्तमान में कई ऐसे मोबाइल ऐप हैं जो यूपीआई कनेक्टेड हैं। इन यूपीआई ऐप की विशेषता है कि उनके द्वारा किसी दुकानदार को पेमेंट हो सकता है, किसी को पैसा ट्रांसफर किया जा सकता है। लेकिन पेमेंट ऐप क्रियेट करने के लिए पैन नंबर देना अनिवार्य होता है।

पैन कार्ड के बारे में जानकारी चाहिए वाहन खरीदने के लिए

आज के समय में हर कोई चाहता है कि वह सुखद यात्रा करें। आराम से ऑफिस जाये। ऐसे में वाहनों की मांग बढ़ गई है। लोग गाड़िया खरीद रहे हैं। यहां जानकारी होना होना चाहिए कि वाहन का मूल्य भरते समय पैन नंबर देना अनिवार्य होता है।

यूटीआई पैन की जरूरत आभूषण खरीदने के लिए

50 हजार से कम की ज्यूलरी खरीदने पर पैन कार्ड की जरूरत नहीं पड़ती है। 50 हजार से अधिक कीमत वाली ज्यूलरी खरीदने पर पैन नंबर देना होता है।

बिमा का भुगतान करने के लिए चाहिए यूटीआई पैन

लोग अपने भविष्य की सुरक्षा के लिए बिमा कराते हैं। बिमा बांड खरीदने के लिए पैन नंबर अनिवार्य रुप से देना होता है।

इस तरह देखा जाये तो यूटीआई पैन कार्ड हमारे दैनिक जीवन की हर उस चीज से संबंधित है जिसमे लेनदेन जुड़ा है। पैन कार्ड महत्व दिन- प्रति दिन बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में अभी तक जिन लोगों का पैन कार्ड नहीं बना है उन्हें अपना यूटीआई पैन कार्ड जल्द से जल्द बनवा लेना चाहिए।

बुनियादी समस्याओं का हल

star star star star star
राम यादव

मैं बारह वर्षों से अपना कारोबार चला रहा हूं लेकिन अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए सक्षम नहीं था। मैंने Ziploan में आवेदन किया और उन्होंने मेरे लोन आवेदन को बहुत ही कम समय में मंजूरी दे दी।

star star star star star
कंचन लता

मैंने अपने कारोबार की ज़रूरतों के लिए ZipLoan से संपर्क किया क्योंकि ZipLoan को लोन के बदले कुछ गिरवी रखने की जरूरत नही थी। कंपनी से लोन पाने की शर्तें पूरा करना आसान था। उन्हें सिर्फ 1 साल का ITR और बिजनेस का सालाना टर्नओवर 5 लाख तक की जरूरत थी।

क्या आप भी ZipLoan के मदद से अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए तैयार हैं?