सिडबी (SIDBI) - भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक

क्या आपको पता है की भारत में लघु उद्योग यानी छोटे स्टार के बिजनेस की आर्थिक सहायता करने के लिए कोई स्पेशल बैंक है? अगर नहीं पता तो हम बताते हैं। जी हां। ऐसा है। देश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग यानी एमएसएमई के लिए समर्पित बैंक है, जिसका नाम नाम सिडबी है। सिडबी का फुल – फॉर्म Small
Industries Development Bank of India है। इसे हिन्दी में भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक के नाम से जानते हैं।

सिडबी एक फाइनेंशियल रुप से स्वतंत्र संस्था है, जो एमएसएमई को बिजनेस लोन के रुप में आर्थिक मदद प्रदान करती है। इस बैंक का मुख्य उद्देश्य देश के लघु उद्योगों का वित्तपोषण और विकास तथा इसी तरह की उन सभी गतिविधियों को संपन्न करना, जिसस देश में लघु उद्योगों के लिए बेहतर माहौल बन सके।

इसे आसान भाषा में समझना हो तो यह होगा की सिडबी द्वारा छोटे एवं मध्यम साइज का नया बिजनेस शुरु करने के लिए और पुराने बिजनेस का विस्तार करने के लिए बिजनेस लोन दिया जाता है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि छोटे और मध्यम बिजनेस का विस्तार करने के लिए ZipLoan कंपनी द्वारा सिर्फ 3 दिन* में 5 लाख तक का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे मुहैया कराया जाता है। आइये सिडबी के बारे में विस्तार से समझते हैं:

आपका बिजनेस कितना पुराना है?
पिछले साल की बिक्री ?
प्रथम नाम
अंतिम नाम
मोबाइल नंबर
अपने शहर का नाम दें

instant business loan

Ziploan व्यवसायों के लिए लोकप्रिय लोनदाता है।

logo
बेहद कम कागजी दस्तावेज प्रक्रिया

बैलेंस शीट की जरूरत नहीं

logo
बिना कुछ गिरवी रखें

10 लाख सालाना टर्नओवर कारोबार के लिए

logo
सिर्फ 3 दिन के भीतर लोन मिलेगा

घर बैठे आपके बैंक अकाउंट में

logo
6 महीने बाद प्री-पेमेंट फ्री

आसान किश्तों में वापस करें

सिडबी क्या है और कब इसकी शुरुवात हुई?

Small Industries Development Bank of India यानी सिडबी, इस बैंक का मुख्यालय लखनऊ में है। यह भारतीय लघु उद्योगों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने वाला देश का प्रमुख बैंक है। भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक यानी सिडबी की स्थापना 2 अप्रैल 1990 को हुई है।

सिडबी की स्थापना से पहले ऐसी कोई समर्पित संस्था नहीं थी, जिससे देश के सूक्ष्म, लघु एवं उद्योगों को आर्थिक सहायता प्राप्त हो सके। इस कमी को भरने के लिए 2 अप्रैल 1990 में भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक अस्तिव में आया।

सिडबी द्वारा लघु उद्योगों को शार्ट टर्म बिजनेस लोन प्रदान किया जाता है। सबसे बेहतरीन बात यह है कि सिडबी द्वारा उन सभी संस्थाओं, जो लघु उद्योगों को बिजनेस लोन प्रदान करते हैं, उन सभी संस्थाओं का सिडबी द्वारा समन्वय भी किया जाता है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि सिडबी बैन भारत सरकार के वित्तीय सेवा विभाग के अंतगर्त काम करता है।

सिडबी बैंक का एक फाउंडेशन भी है। इस फाउंडेशन का नाम सिडबी फाउंडेशन है। यह फाउंडेशन, माइक्रो क्रेडिट के माध्यम से सिडबी, माइक्रो फाइनेंस संस्थाओं के विकास में सक्रिय है। इसके अतिरक्त माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूशन (एमएफआई) के माध्यम से माइक्रोफाइनेंस प्रदान करने में सहायता करता है। इसका संवर्द्धन और विकास कार्यक्रम ग्रामीण उद्यमों के संवर्द्धन और उद्यमिता विकास पर केंद्रित है।

एमएसएमई क्षेत्र में धन की आपूर्ति को बढ़ाने के लिए सिडबी फाउंडेशन एक कार्यक्रम चलाता है। इस कार्यक्रम को “संस्थागत वित्त कार्यक्रम” के रूप में जाना जाता है। इस कार्यक्रम के तहत, सिडबी, विभन्न बैंकों, लघु वित्त बैंकों और नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों लोन निश्चित समय के लिए लोन मिलता है।

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और भारतीय जीवन बिमा निगम (एलआईसी) सिडबी बैंक का का सबसे बड़े पर्सनल शेयरधारक हैं। भारतीय स्टेट बैंक के पास सिडबी बैंक का 16.73% शेयर है।

सिडबी का एमएसएमई प्लस कार्यक्रम

क्रेडिट स्कोर की जांच करने वाली कंपनी ट्रांसयूनियन सिबिल प्राइवेट लिमिटेड यानी सिबिल के सहयोग से सिडबी द्वारा एमएएमई क्रेडिट गतिविधि पर तिमाही रिपोर्ट "एमएसएमई पल्स" शुरु किया गया है। यह रिपोर्ट एमएसएमई के क्रेडिट हिस्ट्री को ध्यान में रखकर तैयार हुई है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि इस रिपोर्ट को तैयार करने में 50 लाख से अधिक एमएसएमई के क्रेडिट स्कोर का एनालिसिस किया गया है।

सिडबी का उधमी पोर्टल

बहुत से ऐसे कारोबारी होते हैं, जो बिजनेस लोन तो लेना चाहते हैं, लेकिन वह किसी बैंक या किसी एनबीएफसी कंपनी में लोन के लिए चक्कर नहीं लगाना चाहते हैं। सिडबी के सहयोग से अब ऐसे भीकारोबारियों को बिजनेस लोन बहुत आसानी से प्राप्त हो सकता है।

एमएसएमई के लिए और अधिक सुविधा प्रदान करते हुए “उधमी पोर्टल” बनाया गया है। उधमी पोर्टल एक ऐसा पोर्टल है, जिसके माध्यम से कारोबारी अपने पसंदीदा बैंक में बिजनेस लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं। खास बात यह कि बिजनेस लोन के लिए सभी जानकारी उद्यमी पोर्टल पर ही दर्ज करना होता होता है, कही आना – जाना नहीं होता है।

कारोबारियों को उधमी पोर्टल पर विभन्न बैंकों की 1 लाख से अधिक बैंक शाखाओं में से किसी एक शाखा से बिजनेस लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

सिडबी ने भारत में उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए और स्वरोजगार को लोगों को अपनाने को प्रेरित करने के लिए 'स्वावलंबन' एवं 'बेचैन सपनों को पंख' नामक देशव्यापी मुहिम चलाया है ताकि देश में उद्यमों को बढ़ावा मिले और देश के नागरिक रोजगार मांगने की बजाय रोजगार देने वाले बन सके।

ZipLoan द्वारा एमएसएमई को 5 लाख तक का बिजनेस लोन

देश की प्रमुख नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी यानी एनबीएफसी ZipLoan द्वारा देश के कारोबारियों को 5 लाख तक का बिजनेस लोन सिर्फ दिन में, बिना कुछ गिरवी रखे, सिर्फ 3 दिन* में प्रदान किया जाता है। खास बात यह है की ZipLoan द्वारा मिलने वाला बिजनेस लोन 6 महीने बाद प्री पेमेंट चार्जेस फ्री होता है।

बिजनेस लोन की पात्रता

बिजनेस लोन लेने के लिए जरूरी कागजी दस्तावेज

ZipLoan से बिजनेस लोन लेने का लाभ

ICICI-Prudential-Internal-page

बुनियादी समस्याओं का हल

राम यादव

मैं बारह वर्षों से अपना कारोबार चला रहा हूं लेकिन अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए सक्षम नहीं था। मैंने Ziploan में आवेदन किया और उन्होंने मेरे लोन आवेदन को बहुत ही कम समय में मंजूरी दे दी।

कंचन लता

मैंने अपने कारोबार की ज़रूरतों के लिए ZipLoan से संपर्क किया क्योंकि ZipLoan को लोन के बदले कुछ गिरवी रखने की जरूरत नही थी। कंपनी से लोन पाने की शर्तें पूरा करना आसान था। उन्हें सिर्फ 1 साल का ITR और बिजनेस का सालाना टर्नओवर 10 लाख तक की जरूरत थी।

क्या आप भी ZipLoan के मदद से अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए तैयार हैं?